Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Latest Poems

latest

BS- 4 DOOR TO DOOR

  BS4 ,DOOR TO DOOR चलो शहर से गांव की ओर BS4, DOOR TO DOOR चला शहर से गांव की ओर BS4,BS4,BS4 मिशन twenty four -2 BS4,BS4 BS4 हमे गां...

 



BS4 ,DOOR TO DOOR

चलो शहर से गांव की ओर
BS4, DOOR TO DOOR
चला शहर से गांव की ओर
BS4,BS4,BS4
मिशन twenty four -2
BS4,BS4 BS4

हमे गांव गांव जाना है संविधान पढ़ाना है -2
वंचित और पिछडों को आपस मे मिलाना है संविधान,पढ़ाकर हक उनको दिलाना है
हक सबको दिलाना है
हमे गांव गांव जाना है संविधान पढ़ाना है
वंचित और पिछड़ों के हक उनको दिलाना है
हक उनको दिलाना है -2
हक मिलने से जीवन से छट जाएगा अंधियारा
आएगी लेकर रौनक सुबह की हर भोर
सुबह की हर भोर

BS4 ,DOOR TO DOOR
चला शहर से गांव की ओर
BS4, DOOR TO DOOR
चला शहर से गांव की ओर
BS4,BS4,BS4
मिशन twenty four -2
BS4,BS4 BS4

BS4 बताएगा मानवीय मूल्य को
BS4 बताएगा संविधान वेल्यू को
संविधान वैल्यू क्या क्या है ये कितने लोग जानते है हाथ उठाये
समता, स्वतंत्रता,न्याय बंधुता
संविधान वैल्यू है
संविधान प्रबोधक ये बताने पर दो जोर
बताने पर दो जोर
BS4 ,DOOR TO DOOR
चला शहर से गांव की ओर
BS4, DOOR TO DOOR
चला शहर से गांव की ओर
BS4,BS4,BS4
मिशन twenty four -2
BS4,BS4 BS4

~ BS4 डोर टू डोर | महेंद्र सिंह कामा 

No comments